"रामायण" कय अवतरण में अंतर

३ बैट्स् नीकाले गए ,  ६ वर्ष पहले
छो
सम्पादन सारांश रहित
छो
 
'''रामायण''' आदि कवि [[वाल्मीकि]] द्वारा लिखल् [[संस्कृत]] कय एकठोएकठु अनुपम [[महाकाव्य]] होय। एहमा २४,००० [[श्लोक]] हैं। ई हिन्दू [[स्मृति]] कय उ अंग होय जवने कय माध्यम से [[रघुवंश]] कय राजा [[राम]] कय गाथा कही गा है। एका [[आदिकाव्य]] भी कहाकहि जाताजात है। रामायण कय सात अध्याय हैं जवने कय [[काण्ड]] कय नाव से जाना जात हय।
== रचनाकाल ==
कछूकुछ भारतीय कहत हैं कि ई महाकाव्य ६०० ईपू से पहिलै लिखा गवा रहै । ईके पीछे युक्ति यू है कि महाभारत जो ईके पश्चात आवा बौद्ध धर्म के बारे में मौन है यद्यपि ईमा जैन, शैव, पाशुपत आदि अन्य परम्पराओं का वर्णन करा गवा है। एहेइहै करणकारण रामायण गौतम बुद्ध के काल के पहिले का होएक चही। भाषा-शैली से भी यह पाणिनि केकय समय से पहिले काकय होएक चही।चाही।
१,३७०

सम्पादन