तुलसी बाबा

श्री राम चरित मानस अवधी भाषा में गोस्वामी तुलसीदास द्वारा १६वा सदी में रचित एकठु महाकाव्य होय। श्री रामचरित मानस भारतीय संस्कृति में एकठु विशेष जगह राखत है। उत्तर भारत में रामायण कय रूप में कयु मनईन द्वारा रोज पढि जात है। श्री रामचरित मानस में इ ग्रन्थ कय नायक कय एकठु महाशक्ति कय रूप में देखाइ गा है जबकि महर्षि वाल्मीकि कृत रामायण में श्री राम कय एक्ठु मनई कय रूप में देखाइ गा है। तुलसी कय प्रभु राम सर्वशक्तिमान अव मर्यादा पुरुषोत्तम हैं। शरद नवरातन में एकर सुन्दर काण्ड कय पाठ पूरा नौ दिन कै जात है।